कांस्टेबल भर्ती परीक्षा:पहले दिन पांच हजार केंडिडेट्स परीक्षा देने बीकानेर नहीं आए, आज दूसरे दिन भी सख्ती

Google Ads new
जय श्री कृष्णा टेंट हाउस

श्री डूंगरगढ़ न्यूज़ बीकानेर    कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में एक तरफ गर्मी का सितम है तो दूसरी तरफ पुलिस विभाग की भारी भरकम सख्ती से बेरोजगार परेशान है। विवाहित महिलाओं को सुहाग चिन्ह खोलकर जाना पड़ रहा है तो पुरुषों की चप्पलें उतारकर नंगे पांव क्लासरूम में जाना पड़ रहा है। इस सख्ती के बीच शुक्रवार को पहले दिन करीब पांच हजार केंडिडेट्स एग्जाम देने ही नहीं आए।

बीकानेर में शुक्रवार को बारह परीक्षा केंद्रों में आठ हजार 956 को दो पारी में एग्जाम दिया जबकि पांच हजार केंडिडेट्स अनुपस्थित रहे। पहली पारी में 6 हजार 984 में से 4517 ने ही एग्जाम दिया। वहीं दूसरी पारी में 6972 में से 4439 ने एग्जाम दिया।

महिलाओं के उतारे गहने

विभिन्न केंद्रों पर महिलाओं के गहने भी उतारे गए। खासकर नाक, कान पर लगे गहने उतारे गए। महिला पुलिसकर्मियों से बार बार आग्रह के बाद भी वो नहीं मानी। कुछ महिलाओं को नाक से तिनखा निकालने में बड़ी परेशानी हुई। शनिवार सुबह भी बीकानेर के एग्जाम सेंटर पर ऐसे दृश्य देखे गए। कुछ महिलाओं के फुल बाजू के कपड़ों को भी महिला पुलिस कर्मियों ने काट दिया।

लेट आया केंडिडेट, एग्जाम से वंचित

वहीं शुक्रवार को सार्दुल स्कूल में विलंब से पहुंचे एक केंडिडेट को एग्जाम नहीं देने दिया गया। दरअसल, ये केंडिडेट बीस मिनट विलंब से पहुंचा था, ऐसे में किसी भी पुलिसकर्मी और सेंटर सुपरडिडेंट ने एग्जाम की अनुमति नहीं दी।

गर्मी से बदहाल हुए परिजन

बड़ी संख्या में एग्जाम दे रहे केंडिडेट्स के साथ उनके परिजन भी बीकानेर आए। खासकर महिला केंडिडेट्स के साथ दो-तीन पारिवारिक सदस्य थे। ऐसे में इन लोगों को बीकानेर की जबर्दस्त गर्मी ने परेशान कर दिया। 47 डिग्री तापमान के बीच इन लोगों को पेड़ की छांव में दोपहर गुजारनी पड़ी। किसी भी सेंटर पर केंडिडेट्स के रुकने के लिए तो दूर पानी पिलाने तक की व्यवस्था नहीं की गई।

यह खबर भी पढ़ें:-   गायों को लम्पी से बचाव के किया गया सुन्दरकाण्ड वाचन, खिलाएं गए आयुर्वेदिक लड्डू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here