कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर करीब 3 घंटे वीसी चली। सीएम, मंत्री, विपक्ष के नेता, अफसर, जनप्रतिनिधियों ने अपनी बातें रखीं।जानिए पूरी ख़बर

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर लाइव मंथन में​​​ सीएम​​​​ गहलोत ने कहा- अभी बातें कम, काम ज्यादा करने का वक्त है। पहली लहर में हम सबको साथ लेकर चले थे।

फोटो फाइल
Google Ads new
जय श्री कृष्णा टेंट हाउस
न्यूज हाईलाइट्स
15 दिन बाद विस्फोटक हालात बने तो रोकना मुश्किल-सीएम गहलोत   
कोरोना रोकने का लॉकडाउन ही रामबाण- डोटासरा बोले
यह किसी पार्टी, जाति की बीमारी नहीं – कटारिया
कोरोना से लड़ाई में हम CM के साथ खड़े हैं – उपनेता प्रतिपक्ष राठौड़
सबको मिलकर कोरोना से लड़ाई लड़नी है  राजस्थान जीतेगा-भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया
कोरोना को गांव वाले समस्या मान ही नहीं रहे, जनप्रतिनिधि ही उन्हें समझा सकते हैं- डीजीपी

यही रफ्तार रहा तो 26 दिन बाद दोगुना हो जाएंगे एक्टिव केस-स्वास्थ्य विभाग के सचिव    
अनटाइड फंड का पैसा कोविड मैनेजमेंट में काम ले सकेंगी पंचायतें-पं.राज विभाग की सचिव   

श्री डूंगरगढ़ न्यूज || ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर लाइव मंथन में​​​ सीएम​​​​ गहलोत ने कहा- अभी बातें कम, काम ज्यादा करने का वक्त है। पहली लहर में हम सबको साथ लेकर चले थे। दूसरी वेब अचानक आई, उसने देश को हिलाकर रख दिया, हाहाकार मच गया। पिछली बार दवा ऑक्सीजन, वेंटीलेटर खाली पड़े रहे। इस बार एक-एक बेड की सिफारिश आती है, डॉक्टर कहते हैं कि किसे हटाकर दें। कोरोना गांवों में घुस गया है, यह विस्फोटक है। 70 साल की उम्र पार कर चुके कोरोना पॉजिटिव सीएम ने कहा-पिछली बार इटली ने 60 साल से ऊपर वालों का तो इलाज ही बंद कर दिया था, हमारे यहां तो परंपराएं हैं कि गहने बेचकर भी इलाज करवाते हैं। हम पीएम, गृह मंत्री के सपंर्क में हैं। 15 ऑक्सीजन प्लांट को बढ़ाने की मांग की है। 70 जगह शहरों में ऑक्सीजन प्लांट लगवाए जा रहे हैं। कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर करीब 3 घंटे वीसी चली। सीएम, मंत्री, विपक्ष के नेता, अफसर, जनप्रतिनिधियों ने अपनी बातें रखीं।
15 दिन बाद विस्फोटक हालात बने तो रोकना मुश्किल
सीएम ने कहा- हमें मदद करने से पहले यह नहीं देखना है कि वह किस पार्टी का है, हमें हर मरीज की मदद करनी है। पार्टी, जाति, धर्म से ऊपर उठकर हमें मदद करनी है। अगर 15 दिन बाद भी विस्फोटक हालत बन जाती है तो इसे रोकना मुश्किल होगा। बजट काम नहीं आएगा, अनुशासन काम आएगा।

गहलोत ने कहा- कोरोना से मौत के ऐसे किस्से कि रात में नींद नहीं आती
गहलोत ने कहा, वैक्सीन ही हमें बचा पाएगी। मुझे और डोटासरा को साथ ही कोरोना हुआ है, हमें वैक्सीन लगी हुई थी इसलिए आपके सामने बात कर रहे हैं। ऐसे-ऐसे किस्से आ रहे हैं कि रात को नींद नहीं आती, 36 साल के युवा जा रहे हैं। कई युवा चार घंटे में ही दम तोड़ रहे हैं, हम इसकी भी स्टडी करवा रहे हैं।

यह खबर भी पढ़ें:-   कुचामन से डीडवाना जा रही रोडवेज बस को तेज रफ्तार ट्रक ने सामने से मारी टक्कर, 12 यात्री हुए घायल

डोटासरा बोले- कोरोना रोकने का लॉकडाउन ही रामबाण

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, अभी लॉकडाउन को प्रभावी बनाने का काम करना होगा। कोरोना रोकने का लॉकडाउन ही रामबाण है। कोरोना रोकने में पंचायतीराज जनप्रतिनिधियों का बड़ा योगदान है। मैं खुद पॉजिटिव आने के बाद दो दिन उदास रहा लेकिन अब कोई दिक्कत नहीं है। वहीं इससे पहले सीएम अशोक गहलोत ने कहा-जब तक कोरोना की चेन नहीं टूटेगी, तब तक हम कितनी ही VC कर लें, कोई फायदा नहीं होने वाला। पिछली बार गांव वालों ने पहरे दिए थे। क्वारैंटाइन व्यक्ति बाहर न निकलें। इस बार तो कोरोना गांव तक पहुंच चुका है, गांव के लोग सतर्क रहें।

कटारिया बोले- यह किसी पार्टी, जाति की बीमारी नहीं

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा, अभी वाहन बंद कर दिए, अब मरीज को अस्पताल ले जाने में दिक्कत होगी। एंबुलेंस की संख्या कम है, इसलिए यह संख्या दूर दराज के क्षेत्रों में बढ़ाई जाए। गांवों में आज भी मास्क लगाने की परिपाटी नहीं है। गांवों में कोरोना ज्यादा फैल रहा है। कटारिया ने कहा, यह किसी पार्टी, जाति की बीमारी नहीं है, हम मरीज को सही जगह पहुंचाएं। बाहर से आने वालों को सख्ती से क्वारैन्टाइन किया जाए।

उपनेता प्रतिपक्ष बोले- कोरोना से लड़ाई में हम CM के साथ खड़े हैं
उपनेता प्रतिपक्ष राठौड़ बोले- कोरोना से लड़ाई में हम मजबूती से सीएम के साथ खड़े हैं। हम आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति करते हैं, करते रहेंगे। लेकिन कोरोना से जंग में हम मुख्यमंत्री और सरकार के साथ खड़े हैं। इस वक्त पंच और सरपंचों की जिम्मेदारी बढ़ गई है। पंच सरपंच गांवों में कोविड प्रोटोकॉल की पालना करवाएं।

पूनिया बोले-सबको मिलकर कोरोना से लड़ाई लड़नी है और राजस्थान जीतेगा

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा-कोरोना के खिलाफ हम सबको मिलकर लड़ाई लड़नी है। इस लड़ाई में हम सरकार के साथ हैं। लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। सावधानी बरतें। हम सब डॉक्टर, नर्सिंगकर्मी, पुलिस सहित कोरोना वॉरियर का सम्मान करें। हम मिलकर लड़ेंगे, कोरोना हारेगा और राजस्थान जीतेगा।

यह खबर भी पढ़ें:-   जोधपुर में पकड़ा गया नर्सिंगकर्मी, खाली शीशी में पानी भरकर रेमडेसिविर इंजेक्शन बताकर बेच रहा था

डीजीपी बोले- कोरोना को गांव वाले समस्या मान ही नहीं रहे, जनप्रतिनिधि ही उन्हें समझा सकते हैं

डीजीपी एमएल लाठर ने कहा- कोरोना को लेकर गांवों में गंभीरता नहीं दिखाई दे रही है। समस्या का समाधान तभी हो सकता है, जब समस्या को स्वीकार करें। हमें बीमारी को गंभीरता से लेना है। गांव के जनप्रतिनिधि ही लोगों को समझा सकते हैं। कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर अपनाकर ही बचा जा सकता हैं। गांव में नो मास्क् नो मूवमेंट का पालन कराना है। लॉकडाउन में तो घर से निकलना ही नहीं है। गांवों में जनप्रतिनिधि अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके शादियां टलवाने का प्रयास करें। जिंदा रहेंगे तो सब कर लेंगे।

स्वास्थ्य विभाग के सचिव बोले-यही रफ्तार रहा तो 26 दिन बाद दोगुना हो जाएंगे एक्टिव केस

स्वास्थ्य विभाग के सचिव सिद्धार्थ महाजन ने प्रेजेंटेशन में बताया कि राजस्थान में कोरोना के केस इसी रफ्तार से बढ़ते रहे तो 26 दिन बाद एक्टिव मरीज दोगुने हो जाएंगे। गांवों में 1.3 करोड़ घरों का सर्वे किया है। 6 लाख लोगों में कोरोना जैसे लक्षण मिले हैं। अभी 2 लाख एक्टिव केस हैं, 26 दिन बाद यानी 6 जून के आसपास ही प्रदेश में 4 लाख एक्टिव मरीज हो जाएंगे। इस बार रोज 82 हजार लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं। इस बार 72 फीसदी लोग ठीक हुए हैं, 26 फीसदी एक्टिव हैं।

राजस्थान में 8 अप्रैल के बाद तेजी से कोरोना के केस बढ़े हैं। 8 अप्रैल को प्रदेश में 3526 एक्टिव केस थे जो 23 अप्रैल को बढ़कर 15 हजार हो गए। 2 मई को 18 हजार क्रॉस हो गए, पिछले 8—10 दिन से कोराना केस रोज 18 हजार के आसपास आ रहे हैं। कुल 371 मैट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई किया गया। राजस्थान में स्वास्थ्य सचिव ने प्रेजेंटेशन में बताया कि प्रदेश में ऑक्सीजन की खपत लगतार बढ़ रही है। कुल 371 टन ऑक्सीजन प्रदेश में उपलब्ध करवाई गई।

सरकारी मुख्य सचेतक ने कहा– केवल बयान देने से राजस्थान का भला नहीं होगा
सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा-हम सब दलों के लोग एक होकर कोरोना से लड़ें और यह एकजुटता दिखनी भी चाहिए। नेता प्रतिपक्ष केवल बयान देने से राजस्थान की जनता का भला नहीं होगा। आप राजस्थान की आवाज बनें, राजस्थान की समस्या उठाएं तभी इस संकट से निकाल पाएंगे। सीएम ने कभी कोई भेदभाव नहीं किया, इसलिए आपकी तारीफ करता हूं। कोरेाना से लड़ाई हमें सामाजिक स्तर पर लड़नी होगी।

यह खबर भी पढ़ें:-   जोधपुर के MDM हॉस्पिटल की चौथी मंजिल से गिरने से मरीज की मौत

पंचायत राज विभाग की सचिव ने कहाअनटाइड फंड का पैसा कोविड मैनेजमेंट में काम ले सकेंगी पंचायतें

पंचायत राज विभाग की सचिव मंजू राजपाल ने बताया कि 15 वें वित्त आयोग के 1931 करोड़ रुपए प्रदेश की 11 हजार से ज्यादा पंचायतों को रिलीज किए हैं। मौजूदा वित्त वर्ष के लिए भी केंद्र ने पंचायतों को अनटाइड फंड का पैसा जून की जगह अभी दे दिया है, जिसे रिलीज किया जा रहा है। पंचायतों के पास पहले भी अनटाइड फंड का पैसा है। पंचायतें अनटाइड फंड का पैसा कोविड मैनेजमेंट में काम ले सकेंगी।

रोजाना 8 से 10 हजार मेडिकल किट बांटे जा रहे

प्रजेंटेशन में बताया गया कि स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें घरों पर आइसोलेट करके मेडिकल किट दिए गए हैं। अब ​तक 5.85 लाख लोगों को मेडिकल किट बांटे गए हैं। रोजाना 8 से 10 हजार मेडिकल किट बांटे जा रहे हैं।

गांवों में मोबाइल ओपीडी वैन से मिलेगी जांच और दवा की सुविधाएं

स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि गांवों में कोरोना स्क्रीनिंग और सर्वे के लिए टीमें बनाई गई हैं। गांवों में लोग बाहर नहीं निकलें, इसलिए मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए जांच और दवा की सुविधाएं दी जाएंगी। हर उपखंड पर कोविड केयर सेंटर बनाया है। पीएचसी स्तर पर कोविड केयर की सुविधाएं रहेंगी। सीएचसी स्तर पर कोविड केयर सेंटर पर एंबुलेंस की सुविधा रहेगी।

गांवों में कोरोना कंट्रोल के लिए सख्ती बढ़ाने पर विचार
कोरोना की पिछली लहर में गांवों में इसका असर न के बराबर था। इस बार गांवों में कारेाना लगातार फैलता जा रहा है। गांवों में कोरोना की टेस्टिंग भी उतनी नहीं है और मरीज आखिरी स्टेज पर अस्पतालों में पहुंच रहे हैं, जिसकी वजह से मौतें बढ़ रही हैंं। आज की वीसी में गांवों में भी सख्ती बढ़ाने को लेकर चर्चा होगी। इसके लिए ग्रासरूट स्तर पर संवाद का फैसला किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here