Bhaumvati Amavasya 2021: भौमवती अमावस्या आज, जानिए महत्व,

BBhaumvati Amavasya 2021
Google Ads new
जय श्री कृष्णा टेंट हाउस

श्री डूंगरगढ़ न्यूज : यदि आप गले-गले तक कर्ज में डूबे हुए हैं। कर्ज उतरने की बजाय दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। लाख प्रयास के बाद भी पैसों की आवक नहीं हो पा रही है। आपके कार्य में तरक्की नहीं हो रही है तो इसके लिए एक अचूक दिन आया  है भौमवती अमावस्या। वैशाख जैसे पुण्यदायी माह में भौमवती अमावस्या का शुभ संयोग बना है आज 11 मई 2021 को। इस दिन कर्ज मुक्ति और आर्थिक समृद्धि के कुछ विशेष उपाय करेंगे तो शीघ्र लाभ होगा।
अमावस्या प्रत्येक माह में आती है लेकिन जब यह सोमवार, मंगलवार या शनिवार को आती है तो विशेष संयोग वाली बन जाती है। सोमवार को सोमवती अमावस्या, मंगलवार को भौमवती अमावस्या और शनिवार को शनैश्चरी अमावस्या होती है। इनमें से मंगलवार को आने वाली भौमवती अमावस्या आर्थिक संकटों से छुटकारा दिलाने वाली मानी जाती है। इस बार की भौमवती अमावस्या के दिन भरणी नक्षत्र और सौभाग्य योग है। साथ ही चंद्रमा भी मंगल की ही राशि मेष में गोचर करेगा। इसलिए यह दिन और भी शुभ हो जाता है। तो आइए जानते हैं कुछ विशेष उपाय जिन्हें करके आप भी सुखी और समृद्धिशाली जीवन व्यतीत कर सकते हैं।

भौमवती अमावस्या के दिन करें ये काम

भौमवती अमावस्या के दिन सबसे पहले सूर्योदय के समय तांबे के कलश में शुद्ध जल भरें। इसमें लाल चंदन का पाउडर और गुड़हल का फूल डालें और सूर्य के बारह नामों का उच्चारण करते हुए सूर्यदेव को जल अर्पित करें।
भौमवती अमावस्या के दिन तांबे का त्रिकोण मंगलयंत्र घर में स्थापित करें और नित्य इसकी पूजा करके मंगल स्तोत्र का पाठ करें और यंत्र पर लाल चंदन का तिलक करें। इससे शीघ्र ही पैसों की आवक शुरू हो जाएगी।
श्री गणेश ऋण मोचक मंगल स्तोत्र के 51 पाठ करें। गणेशजी को बूंदी के लड्डू का नैवेद्य लगाएं। कर्ज मुक्ति का मार्ग खुलेगा।
भौमवती अमावस्या के दिन लाल चंदन की माला धारण करें। अर्थ से जुड़ा जो भी काम करेंगे उसमें सफलता प्राप्त होगी।
इस दिन श्रीयंत्र का विधिवत पूजन करके श्री सूक्त का पाठ करने से पैसों की आवक प्रारंभ हो जाती है।
इस बार सौभाग्य योग और मेष का चंद्र होने से उपरोक्त उपाय शीघ्र फलीभूत होंगे।

यह खबर भी पढ़ें:-   श्री डूंगरगढ़ में 17 दिवसीय प्राकृतिक चिकित्सा शिविर का समापन आज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here