स्पेशल सेल ने आरोपी सुशील कुमार और उनके साथी अजय को दिल्ली से गिरफ्तार किया; हत्या मामले में फरार चल रहे थे

shusil kumar murder
Google Ads new
जय श्री कृष्णा टेंट हाउस

 श्री डूंगरगढ़ न्यूज || छत्रसाल स्टेडियम में जूनियर गोल्ड मेडलिस्ट पहलवान सागर राना की हत्या मामले फरार चल रहे ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट सुशील कुमार को दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के ही मुंदका इलाके से गिरफ्तार कर लिया है। सुशील के साथ उनके साथी अजय को भी गिरफ्तार किया गया है। सुशील पर पुलिस ने एक लाख रुपए और अजय पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा था। वहीं, मंगलवार को रोहिणी कोर्ट ने सुशील की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था।

क्या है पूरा मामला?
पुलिस के मुताबिक, 5 मई को छत्रसाल स्टेडियम के पार्किंग एरिया में पहलवान के दो गुटों में झड़प हुई थी। इस दौरान फायरिंग भी हुई। इसमें 5 पहलवान जख्मी हो गए। इनमें सागर (23), सोनू (37), अमित कुमार (27) और 2 अन्य पहलवान शामिल थे।

सागर ने इलाज के दौरान दम तोड़ा
सागर ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वह दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल का बेटा था। बताया जा रहा है कि यह झगड़ा प्रॉपर्टी विवाद को लेकर हुआ था। सागर और उसके दोस्त जिस घर में रहते थे, सुशील उसे खाली करने का दबाव बना रहे थे।

घटनास्थल से डबल बैरल गन और कारतूस मिले
पुलिस को घटनास्थल से 5 गाड़ियों के अलावा एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिंदा कारतूस बरामद हुई। दिल्ली पुलिस ने बताया कि वे सुशील कुमार की भूमिका की जांच कर रहे, क्योंकि उन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। इसके बाद पुलिस ने सुशील और अन्य आरोपी की तलाश में कई जगहों पर छापेमारी भी की।

यह खबर भी पढ़ें:-   जानिए क्यों आज राजस्थान में 7 हजार पेट्रोल पंप रहेंगे बंद। पढ़े पूरी खबर

सामने नहीं आ रहे आरोपी
लुकआउट नोटिस जारी करने के बाद भी सुशील इस मामले में पुलिस का साथ देने के लिए सामने नहीं आए। इस कारण उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया। इतना ही नहीं दिल्ली पुलिस ने फरार चल रहे सुशील और उनके PA अजय के ऊपर इनाम की घोषणा भी की।

सुशील की गिरफ्तारी में मदद करने वाले को 1 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा। वहीं, अजय को गिरफ्तार करवाने वाले को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे। इनके अलावा अन्य आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया है। आरोपियों की तलाश में दिल्ली पुलिस छापेमारी भी कर रही है।

सुशील ने आरोपों से इनकार किया था
घटना के एक दिन बाद सुशील ने मामले पर सफाई दी थी। उन्होंने कहा था कि वह हमारे साथी पहलवान नहीं थे। हमने ही पुलिस अधिकारियों को सूचित किया था कि कुछ अज्ञात लोग हमारे परिसर में घुसकर झगड़ा कर रहे हैं। सुशील ने 2012 के लंदन ओलिंपिक में सिल्वर और बीजिंग ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here