WhatsApp Channel Click here Join Now

PubG के चक्कर में 16 साल के लड़के ने की 12 साल के चचेरे भाई की हत्या

विज्ञापन

श्री डूंगरगढ़ न्यूज लाडनूं|| राजस्थान के नागौर में 16 साल के नाबालिग को ‘पबजी'( PubG  )और ‘फ्री फायर’ की ऐसी लत लगी कि उसने अपने 12 साल के चचेरे भाई की गला दबाकर हत्या कर दी. हत्या के बाद लाश को जमीन में गाड़ दिया. इतना ही नहीं वह असम में बैठे चचेरे भाई के अंकल को फेक इंस्टाग्राम आईडी से मैसेज कर 5 लाख रुपए की फिरौती भी मांगता रहा.

Google Ad

सोमवार सुबह लाडनूं पुलिस ने आरोपी नाबलिग को डिटेन कर उसकी निशानदेही पर गांव के तालाब किनारे जमीन में गड़ी लाश बरामद कर ली. फिलहाल लाडनूं CHC पर पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है.

क्या है पूरा मामला

दरअसल, 8 दिसंबर को धुड़ीला गांव का एक 12 वर्षीय बच्चा अपनी मम्मी का मोबाइल लेकर घर से गायब हो गया था. उस बच्चे के चाचा ने अगले दिन पुलिस थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी. उन्होंने बताया था कि बच्चे को पबजी और फ्री फायर खेलने की आदत थी. इस पर पुलिस ने साइबर तकनीकी से बच्चे की तलाश शुरू कर दी.

इस बीच असम में बैठे ( इसी बच्चे ) के अंकल को एक इंस्टाग्राम आईडी से मैसेज आया कि वह बच्चा उसके पास दिल्ली में आ गया है. अगर उसे ज़िंदा चाहते हो तो 5 लाख रुपए का इंतजाम कर लो. परिजनों ने तुरंत ही इस बात की जानकारी पुलिस को दी.

पुलिस ने साइबर तकनीकी से जांच-पड़ताल शुरू की तो पता चला कि जिस इंस्टाग्राम आईडी से फिरौती मांगी जा रही थी, उसका IP एड्रेस उस मासूम के साथ गायब हुए मोबाइल का था. लोकेशन उसके गांव की ही आ रही थी. मोबाइल में इंटरनेट दूसरे मोबाइल के हॉटस्पॉट से चलाया जा रहा था. मासूम के नाबालिग चचेरे भाई पर शक हुआ.

चचेरे भाई से पूछताछ की उसने पूरे मामले का खुलासा कर दिया. पुलिस पूछताछ में नाबालिग ने बताया कि वो मोबाइल में पबजी, फ्री फायर और तीन पत्ती जैसे गेम खेलता है. इनमें लगातार हुई हार से उस पर कर्ज चढ़ गया था, रुपये की सख्त जरुरत थी. मृतक भी उसके साथ मोबाइल गेम खेलता था.

इसके चलते उसने गांव के तालाब किनारे उसकी गला दबाकर हत्या कर दी. उसका मोबाइल अपने कब्जे में लिया. लाश नाले में गिराकर ऊपर मिट्टी गिरा दी. इसके बाद आरोपी नाबालिग ने मासूम के मोबाइल से सिम निकालकर फेंक दिया. फिर इंस्टाग्राम पर एक फेक आईडी बनाई. दूसरे मोबाइल नेटवर्क से हॉटस्पॉट कनेक्ट कर फिरौती मांगी.

क्यों होती है पैसे की जरूरत?

बता दें कि पबजी, फ्री फायर जैसे ऑनलाइन गेम के अपने वॉलेट होते हैं, जिन्हें पेटीएम और कार्ड की मदद से रीचार्ज किया जाता है. वॉलेट में मौजूद पैसों की मदद से गेम में अलग-अलग लेवल खोले जाते हैं. इसके साथ आपके कैरेक्टर के लिए कपड़े और बंदूकों की स्किन तक खरीदी जाती है, जिनकी कीमत कई बार हजारों रुपए में होती है.