श्री डूंगरगढ़ में नि:शुल्क चिकित्सा शिविर में 700 व्यक्तियों की चिकित्सा की गई

Google Ads new
जय श्री कृष्णा टेंट हाउस

श्री डूंगरगढ़ न्यूज़ ||श्रीमद् आचार्य श्री तुलसी महाप्रज्ञ साधना संस्थान श्री डूंगरगढ़ में धर्मचंद भीखमचंद पुगलिया चेरिटेबल ट्रस्ट श्री डूंगरगढ़ कोलकाता के द्वारा निशुल्क प्राकृतिक चिकित्सा शिविर 15 अक्टूबर 2021 से निरंतर चल रहा है ।

इस शिविर में प्राकृतिक चिकित्सा लेने वाले रोगियों की दिन प्रतिदिन बढ़ोतरी हो रही है श्री डूंगरगढ़ उप खंड क्षेत्र के बाहर के दूर दराज लोग भी काफी संख्या मे इस शिविर का लाभ लेने आ रहे हैं शिविर में डॉ राधेश्याम पारीक और डा रवि प्रकाश पारीक अपनी चिकित्सा सेवा के द्वारा असाध्य रोगों का निशुल्क इलाज कर रहे हैं |

यह खबर भी पढ़ें:-   जानिए आज 21 जून 2021 का पंचाग ,शुभ अशुभ मुहूर्त और,नक्षत्र ,पंडित बाल व्यास खेताराम जी शास्त्री के साथ

श्री डूंगरगढ़ के तेरापंथ भवन धोलिया नोहरा में प्रातः 8:00 से 12:30 तक विभिन्न प्रकार के रोगियों का इलाज भाप व्यायाम प्राणायाम अन्य विभिन्न प्रकार की क्रिया द्वारा इलाज किया जा रहा है। प्राकृतिक चिकित्सक डा राधेश्याम पारीक ने बताया कि दो सप्ताह में 700 व्यक्तियों की चिकित्सा की गई । बीकानेर से पधारे भाजपा जिलाध्यक्ष ओबीसी मोर्चा भंवरलाल जागीड ने भी चिकित्सक से परामर्श लिया।जन जागृति मंच के अध्यक्ष तोलाराम मारू ने चोवदवे दिन इस शिविर काअवलोकन कर बताया कि ऐसे रोगी जिन्होंने 2 साल पहले भी प्राकृतिक चिकित्सा शिविर में अपना इलाज किया था वे भी लाभ लेने के लिए शिविर में आ रहे हैं ।हर रोगी हर दिन यह बताता है कि हमें आज कुछ सुधार महसूस हो रहा है।चलने फिरने उठने बैठने में तकलीफ वाले रोगियों को काफी राहत महसूस हो रही है ।कई रोगी तो लगातार 2 सप्ताह भर से चिकित्सा प्राकृतिक चिकित्सा सेवा का लाभ ले रहे हैं और शिविर के आयोजन कर्ता भीखम चंद पुगलिया का आभार व्यक्त कर रहे हैं । जिन्होंने श्री डूंगरगढ़ में इस प्रकार का दूसरी बार शिविर लगाया है शिविर में महिला पुरुष बुजुर्ग सभी का इलाज प्राकृतिक चिकित्सा के द्वारा निशुल्क किया जा रहा है।

इस प्राकृतिक निशुल्क प्राकृतिक चिकित्सा शिविर में आने वाले रोगियों के लिए तथा सहयोगियों के बैठने के लिए कोरोना गाईड लाईनकी पालना करते हुए बहुत ही सुंदर व्यवस्था की गई है। जिसके लिए रेल सेवा समिति के अध्यक्ष तोलाराम मारू ने आचार्य तुलसी महाप्रज्ञ साधना संस्थान के अध्यक्ष भीखमचंद पुगलिया तथा मंत्री माल चंद सिंघी व संस्थान के सभी सदस्यों प्रति आभार प्रकट किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here