WhatsApp Channel Click here Join Now

‘हम पायलट को बनाना चाहते थे सीएम लेकिन मिला धोखा’, सचिन पर क्यों खफा हुए हनुमान बेनीवाल?

विज्ञापन

Hanuman Beniwal Vs Sachin Pilot: राजस्थान की राजनीति में सचिन पायलट दूसरे नेताओं से रिश्तों को लेकर चर्चा में रहते हैं। बीते कई महीनों से राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ विवाद चल रहा था। आलाकमान की मध्यस्थता के बाद अब वह विवाद सुलझा हुआ दिखाई दे रहा है, क्योंकि दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ बयानबाजी बंद कर दी है। अब सचिन पायलट से राजस्थान के एक और नेता खफा हो गए हैं।

Google Ad

राजस्थान की नागौर सीट से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि वो सचिन पायलट को राजस्थान का सीएम बनाना चाहते थे, लेकिन उन्हें धोखा मिला है।

सचिन पायलट ने मांगी थी मदद

राजस्थान में चुनावी सरगर्मी तेज होने के बीच आरएलपी सांसद हनुमान बेनीवाल का यह बयान आया है। इस दौरान हनुमान बेनीवाल और सचिन पायलट के बीच की तल्खियां भी जगजाहिर होती हुई दिखाई दे रही हैं। हनुमान बेनीवाल ने कहा कि 2018 में जब राजस्थान में कांग्रेस की जीत के बाद सीएम पद की दौड़ चल रही थी, उस समय पायलट ने मुझसे समर्थन मांगा था। बेनीवाल ने कहा कि मैंने अपने तीन विधायक इसी शर्त पर दिए थे कि सचिन पायलट राज्य का मुख्यमंत्री बनेंगे। बेनीवाल ने बताया कि सचिन पायलट ने इस दौरान उनको पांच बार फोन करके मदद मांगी थी, लेकिन अब वो पीछे हट गए हैं।

गुर्जर भी नहीं देंगे सचिन पायलट को वोट: बेनीवाल
मीडिया कर्मियों से बातचीत के दौरान बेनीवाल ने सचिन पायलट पर नाराजगी जाहिर की है। नाराजगी जाहिर करते हुए बेनीवाल ने कहा कि सचिन पायलट का गुर्जरों और युवाओं के बीच अच्छा वोट बैंक था, लेकिन अब वो भी उन्हें वोट नहीं देंगे। इस दौरान बेनीवाल ने इसका कारण बताते हुए कहा कि सचिन पायलट के बार-बार बैकफुट पर आ जाने की वजह से युवाओं और गुर्जरों में नाराजगी है। उन्होंने कहा कि उनका बैकफुट पर जाना युवाओं को लगता है कि वो कमजोर पड़ गए हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए पायलट ने भेजे थे आदमी
आरएलपी सांसद ने इस दौरान सचिन पायलट को लेकर खुलासा करते हुए कहा कि मुझसे मांगने के लिए सचिन पायलट ने 5-7 बार फोन किया था। इसके बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। बेनीवाल ने इस दौरान खुलासा करते हुए कहा कि प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के लिए आदमी भी सचिन पायलट ने ही मेरे घर भेजे थे।