WhatsApp Channel Click here Join Now

कांग्रेस छोड़कर BJP में शामिल हुए सुभाष महरिया, फिर थामा BJP का दामन

विज्ञापन

राजस्थान में विधानसभा चुनाव नजदीक आने के साथ ही बागी नेताओं की घर वापसी का दौर शुरू हो गया है। 2016 में BJP से नाराज होकर कांग्रेस में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया ने आज एक बार फिर कांग्रेस का दामन छोड़ BJP ज्वॉइन कर ली है। सुभाष महरिया के साथ पूर्व IPS गोपाल मीणा, पूर्व IPS रामदेव सिंह खैरवा, पूर्व IAS पीआर मीणा, डॉक्टर नरसी किराड़ ने भी BJP ज्वॉइन की है। प्रदेश BJP मुख्यालय में वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी महरिया ने आज एक बार फिर BJP की सदस्यता ग्रहण की।

Google Ad

 

इस दौरान महरिया ने कहा- फिर से अपनी परिवार में आकर बहुत खुशी महसूस कर रहा हूं। मैं BJP कार्यकर्ता के तौर पर फिर से शामिल हुआ हूं। ऐसे में पार्टी मुझे जो भी, जहां भी जिम्मेदारी देगी मैं उसे अच्छे से निभाने की कोशिश करूंगा।

लगातार तीन बार सांसद चुने गए

29 सितंबर 1957 को जन्मे सुभाष महरिया BA पास हैं। उन्होंने सीकर के एसके कॉलेज से BA किया है। पेशे से वे किसान, सामाजिक कार्यकर्ता तथा उद्योगपति हैं। वे साल 1998, 1999 व 2004 में लोकसभा के लिए चुने गए। महरिया 1996 के चुनाव में कांग्रेस के हरि सिंह से हार गए थे। इसके अगले ही चुनाव में उन्होंने हरी सिंह को हराया। इसके बाद लगातार तीन बार यहां से सांसद चुने गए। साल 2009 के चुनाव में हार के बाद 2014 के चुनाव में भाजपा ने उन्हें उम्मीदवार नहीं बनाया। तो वे पार्टी से नाराज हो गए थे। इसके बाद 2016 से उन्होंने कांग्रेस ज्वॉइन की थी। 2019 में उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ा था।

प्रमुख जाट नेता रहे

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे महरिया एक प्रमुख जाट नेता हैं। वह BJP के किसान मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुके है। महरिया 1998 और 1999 से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए इसके बाद 2004 तक केंद्रीय राज्यमंत्री ग्रामीण विकास मंत्रालय में रहे। 2004 में फिर लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए इसके बद 2010 में भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बनें थे। जबकि 2011 में उन्हें BJP किसान मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया था।